जोड़ों की बीमारियों के पीछे केवल एक ही चीज होती है जिसे भारतीय डॉक्टर पूरी तरह से नजरअंदाज कर देते हैं।

डॉ कार्ल किर्श्चमायर: 'भारत में जोड़ों की बीमारियों का इलाज पुरानी और बेअसर दवाओं से किया जाता है जिन्हें जिंदगी भर लेने की जरूरत होती है। वहीं यूरोप में जोड़ो का इलाज इतना आसान हो गया है जितना आम सर्दी का।
सभी जर्मन डॉक्टर, रूमेटोलॉजिस्ट, जनरल प्रैक्टिशनर और पैरामेडिक्स लंबे समय से यह जानते हैं कि बीमारी के इलाज के लिए उसकी जड़ पर काम करना पड़ता है ना कि लक्षणों पर। इससे पूरी तरह से, तेजी से और सुरक्षित तरीके से बीमारी ठीक होने की गारंटी मिलती है। और देखिए जोड़ों की समस्याओं का मुख्य कारण आखिर होता क्या है? रक्त प्रवाह में गड़बड़ियों और सिनोवियल फ्लूइड के प्रवाह में विकारों के कारण और ओर्थो-साल्ट्स का जमा हो जाना।
यूरेट या यूरिक एसिड के ट्रू साल्ट, जो वात की जड़ होते हैं।
ओस्टियोफ़ाइट्स या कैल्साइन साल्ट्स से ही जोड़ो और रीढ़ की हड्डियों की 97% बीमारियां होती हैं। यह बीमारियां हैं, सभी प्रकार के आर्थराइटिस और ओस्टियोआर्थराइटिस, डीडीडी, ऑस्टियोपोरोसिस, रूमेटिज्म, बार्सिटिस और यहां तक कि हाइड्रोमा भी। इन सभी बीमारियों की एक ही जड़ होती है - ओस्टियोफाइट्स का जमा हो जाना।
जोड़ों की संरचना पर जम चुके सॉल्ट आसपास के ऊतकों, अर्थात हड्डी और कार्टिलेज को रेगमाल की तरह घिसकर खराब करने लगते हैं। बढ़ते सॉल्ट क्रिस्टल मांसपेशियों के ऊतकों, नसों, रक्त की धमनियों और कैपिलरियों को नुक्सान पहुंचाते हैं। इससे सूजन, इंफेक्शन और भयानक दर्द होता है।
सीरियस हो चुके मामलों में ओर्थों-सॉल्ट के बड़े-बड़े टुकड़े हड्डी के एक बड़े हिस्से को आसानी से तोड़ सकते हैं जिससे जोड़ पूरा खराब और स्थाई रूप से अपाहिज हो सकता है।
एक बहुत ही खतरनाक मिथ्या यह है कि कैल्शियम जोड़ों के लिए अच्छा होता है। जी हां, कैल्शियम अच्छा होता है लेकिन केवल तब जब आपके जोड़ स्वस्थहोंगे। जब जोड़ों में दर्द होता है या उनमें क्रैक होता है तो इसका अर्थ यह होता है कि ओस्टियोफाइट्स की एक परत उनके चारों ओर पहले ही जम चुकी है। कैल्शियम हड्डियों के ऊतकों को मजबूती तो देता है लेकिन ओस्टियोफाइट भी लाता है जिससे उनकी बढ़त और तेज हो जाती है।
इसलिए जर्मन रूमेटोलॉजिस्ट सबसे पहले खराब हो रहे जोड़ में रक्त प्रवाह वापस लाते हैं जिससे कई सालों से जमा हो रहा ओर्थों-साल्ट बाहर निकलें। इसी से सिनोवियल फ्लूड का प्रवाह सामान्य होता है और जोड़ों के ऊतकों की रिकवरी शुरू हो जाती है।

Enjoyed this article? Stay informed by joining our newsletter!

Comments

You must be logged in to post a comment.

About Author