नक्सलवाद को लेकर दिल्ली में आज गृहमंत्रालय की बैठक..

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने सोमवार को नक्सलवाद को लेकर बड़े साफ शब्दों में कह दिया है कि अब देश में वामपंथी उग्रवाद की कोई जगह नहीं होगी। इसे खत्म करने के लिए विशेष रणनीति बन रही है। इसके तहत मोदी सरकार कई राज्यों में फैले वामपंथी उग्रवाद को धन मुहैया कराने वालों पर करारी चोट करेगी। उन्हें धन कौन मुहैया करा रहा है, ये जानकारी सरकार के पास है। इस पर काम भी शुरू हो गया है। वामपंथी उग्रवाद पर मोदी सरकार ने जिस तरह नकेल कसी है, यह उसी का नतीजा है कि आज वामपंथी उग्रवाद की घटनाएं कम हो रही हैं। साल 2009 में ऐसी 2258 घटनाएं सामने आई थी, जबकि 2018 में इनकी संख्या 833 है।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह विज्ञान भवन में वामपंथी उग्रवाद पर केंद्र सरकार के मंत्रियों, प्रभावित राज्य के मुख्य मंत्रियों, मुख्य सचिवों तथा केंद्र व राज्यों के आला अधिकारियों के साथ एक बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा, वामपंथी उग्रवाद पिछले कुछ दशकों से देश के सामने एक बड़ी चुनौती के तौर पर उभरा है। इसे समाप्त करने के मकसद से उन्हें उपलब्ध होने वाले धन को रोकने के लिए सरकार विशेष प्रयास कर रही है। इस मुहिम के द्वारा उनके रहने, खाने-पीने, घूमने, हथियारों की खरीद और ट्रेनिंग आदि व्यवस्थाओं को रोका जा सकता है। यह तय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जिस नए भारत के निर्माण की बात करते हैं, उसमें वामपंथी उग्रवाद के लिये कोई जगह नहीं होगी। केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि केंद्र व राज्य सरकारों के समन्वय से वामपंथी उग्रवाद को निर्मूल किया जा सकता है।

नक्सलवाद को लेकर दिल्ली में आज गृहमंत्रालय की बैठक..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top